Top Ad unit 728 × 90

Breaking News

InterestingStories

Comet धूमकेतु किसे कहते हैं | क्या धूमकेतु में विस्फोट हो सकता है | टूटते हुए सितारे क्या है ?

धूमकेतु (Comet) किसे कहते हैं ?



टूटते हुए सितारे क्या है , धूमकेतु किसे कहते हैं, comet क्या है, टूटते हुए सितारे क्या है, धूमकेतु की पूंछ क्यों होती है,comet कितने बड़े होते हैं, धूमकेतु कितने बड़े होते हैं, न्यूक्लियस किसे कहते हैं, उल्का पिंड क्या होता है उल्का की वर्षा, Meteor shower, सबसे बड़ा धूमकेतु comet


हेमंत ने पूछा , " मैम , धूमकेतु हम किसे कहते हैं ? " मैम ने उत्तर दिया , " धूमकेतु किसी ग्रह या चंद्रमा की तरह सूर्य के परिवार अर्थात सौर प्रणाली का सदस्य होता है । यह ठोस पदार्थों के टुकड़ों के एक बड़े समूह से बना होता है , जिसमें गैसें शामिल होती हैं । 



दूरबीन से देखने पर हमें धूमकेतु का एक सिर तथा पूंछ दिखाई देती है , इसीलिए इसे पुच्छल तारा भी कह दिया जाता है । धूमकेतु का सबसे चमकदार भाग इसका ' सिर ' होता है । ' सिर ' का मध्य भाग सबसे भारी पदार्थों से बना होता है और इसे ' न्यूक्लियस ' कहा जाता है । 



न्यूक्लियस के इर्द - गिर्द के भाग को ' कोमा ' कहा जाता है । यह बादल की धुंधली परत की तरह होता है । जो 1,50,000 मील या इससे भी अधिक फैला हुआ हो सकता है । धूमकेतु की पूंछ बहुत पतली गैसों तथा महीन कणों से बनी होती है । यह पूंछ तब बनती है जब सौर हवाओं के कारण इसकी गैसें पीछे की ओर उड़ जाती हैं । 



जब कोई धूमकेतु पहले दिखाई देता है तो रोशनी का एक नन्हा बिंदु लगता है हालांकि इसका व्यास हजारों मीलों में हो सकता है । धूमकेतु की पूंछें आकार तथा आकृति में अलग अलग तरह की होती हैं । कुछ छोटी तथा कुछ बड़ी होती हैं । आमतौर पर उनकी लम्बाई कम से कम 50,00,000 मील होती है । 



कई बार तो ये 10,00,00,000 मील लम्बी होती हैं । कुछ धूमकेतुओं की पूंछ बिल्कुल नहीं होती । खगोल वैज्ञानिकों ने लगभग 1000 धूमकेतुओं को सूचीबद्ध किया है लेकिन सैंकड़ों - हजारों ऐसे धूमकेतु हमारी सौर प्रणाली में हो सकते हैं , जिन्हें अभी देखा नहीं गया । "



क्या धूमकेतु में विस्फोट हो सकता है ? 



टूटते हुए सितारे क्या है , धूमकेतु किसे कहते हैं, comet क्या है, टूटते हुए सितारे क्या है, धूमकेतु की पूंछ क्यों होती है,comet कितने बड़े होते हैं, धूमकेतु कितने बड़े होते हैं, न्यूक्लियस किसे कहते हैं, उल्का पिंड क्या होता है उल्का की वर्षा, Meteor shower, सबसे बड़ा धूमकेतु comet


रेशम ने पूछा , “ मैम , क्या धूमकेतु में विस्फोट हो सकता है ? " मैम ने उत्तर दिया , “ धूमकेतुओं में विस्फोट नहीं होता , लेकिन वे टूट सकते हैं । एक ऐसा धूमकेतु था जिसका कई बार अवलोकन किया गया , लेकिन 1846 में यह दो भागों में टूट गया । 



इससे धूमकेतुओं का एक जोड़ा बन गया और फिर ये दो भाग इतने छोटे भागों में टूट गए कि उन्हें देखना भी मुश्किल था । धूमकेतुओं के टूटे हुए टुकड़े ' उल्काएं ' कहलाते हैं । जब धूमकेतु टूटते हैं तो उनके लाखों टुकड़े अंतरिक्ष में घूमना जारी रखते हैं । जब वे पृथ्वी के वातावरण में से होकर गुजरते हैं तो गर्मी के कारण पूरी तरह जल जाते हैं । 



केवल बहुत बड़े टुकड़े ही पृथ्वी तक पहुंचते हैं । " इस तरह हम कह सकते हैं कि हालांकि इनमें विस्फोट नहीं होता लेकिन ये गायब हो जाते हैं । ये छोटे - छोटे टुकड़ों में टूट कर गायब होते हैं और फिर उल्का धूल के रूप में अपनी कक्षा में चक्कर लगाते रहते हैं । "



टूटते हुए सितारे क्या है ? 



टूटते हुए सितारे क्या है , धूमकेतु किसे कहते हैं, comet क्या है, टूटते हुए सितारे क्या है, धूमकेतु की पूंछ क्यों होती है,comet कितने बड़े होते हैं, धूमकेतु कितने बड़े होते हैं, न्यूक्लियस किसे कहते हैं, उल्का पिंड क्या होता है उल्का की वर्षा, Meteor shower, सबसे बड़ा धूमकेतु comet


जागृति ने पूछा , “ मैम , सितारे टूट कर कैसे गिरते हैं ? क्या वे छोटे टुकड़ों में टूट कर गिर पड़ते हैं ? " मैम ने जानकारी दी , “ सितारे कभी नहीं गिरते । टूट कर गिरते हुए दिखाई देने वाले सितारे दरअसल उल्काएं होती हैं । 



उल्काएं धूमकेतुओं के टूटे हुए टुकड़े हैं । जब ये उल्काएं हमारी पृथ्वी के वातावरण की परिधि में आती हैं तो हम उन्हें इसलिए देख सकते हैं क्योंकि ये अपने पीछे रोशनी की एक लम्बी लकीर छोड़ती हैं । ऐसा उनकी सतह पर हवा के घर्षण से उत्पन्न गर्मी के कारण होता है । 



अधिकांश उल्काएं काफी छोटी होती हैं , एक पिन के सिरे के आकार की । केवल बड़े आकार की उल्काएं पृथ्वी तक पहुंचती हैं , जबकि अन्य पृथ्वी के वातावरण में से गुजरते समय उत्पन्न गर्मी के कारण नष्ट हो जाती हैं । जब उल्का का कोई टुकड़ा पृथ्वी पर पहुंच जाता है तो उसे उल्कापिंड कहा जाता है । 



पृथ्वी पर पाए गए अब तक के सबसे बड़े उल्कापिंडों का भार 60 से 70 टन के बीच है और ये अफ्रीका में पाए गए । उल्कापिंड मुख्यतः दो तरह के होते हैं - धातु के बने उल्कापिंड तथा पथरीले उल्कापिंड । मैटेलिक या धातु के बने उल्कापिंड निक्कल तथा लोहे के बने होते हैं 



जबकि पथरीली उल्काएं खनिजों से बनी होती हैं तथा पत्थर के टुकड़ों जैसी दिखती हैं । हर रोज दिन - रात हजारों की संख्या में उल्कापिंड पृथ्वी पर गिरते हैं लेकिन आमतौर पर वे महासागरों तथा झीलों में गिरते हैं । "




🙏दोस्तों अगर आपको यह जानकारी अच्छी लगी हो तो आप कमेंट करना ना भूलें नीचे कमेंट बॉक्स में अपनी कीमती राय जरूर दें। Discovery World Hindi पर बने रहने के लिए हृदय से धन्यवाद ।🌺


यह भी पढ़ें:-






               💜💜💜 Discovery World 💜💜💜
Comet धूमकेतु किसे कहते हैं | क्या धूमकेतु में विस्फोट हो सकता है | टूटते हुए सितारे क्या है ? Reviewed by Jeetender on January 03, 2022 Rating: 5

No comments:

Write the Comments

Discovery World All Right Reseved |

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.