Top Ad unit 728 × 90

Breaking News

InterestingStories

लोगों ने अपने कान कब छिदवाने शुरू किए | पुरुषों ने दाढ़ी बनानी कब शुरू की | प्रारंभिक हज्जाम कौन थे | पुरातन काल में किस तरह के दर्पण इस्तेमाल होते थे ?

लोगों ने अपने कान कब छिदवाने शुरू किए ? 


लोगों ने अपने कान कब विधवाने शुरू किए | पुरुषों ने दाढ़ी बनानी कब शुरू की | प्रारंभिक हज्जाम कौन थे | पुरातन काल में किस तरह के दर्पण इस्तेमाल होते थे


लोगों ने कानों में बालियां पहनने के लिए पूर्व ऐतिहासिक काल में कान बिंधवाने प्रारंभ कर दिए थे । प्राचीन फारसी , भारतीय , मिस्री, अरबी ये सभी लोग कानों में कुछ न कुछ पहनते थे । 




यूनानी लोग अपने देवताओं की प्रतिमाओं के लिए सोने के खूबसूरत ' इयररिंग्स ' बनाते थे और जब तक लड़के किशोरावस्था में नहीं पहुंच जाते थे , कानों में कुछ न कुछ पहनते थे । रोमन भी ' इयररिंग्स ' पहनते थे । वे तो अपने ' इयररिंग्स ' में मोती तथा हीरे भी जड़ते थे । 




पुरुष भी कानों में कुछ न कुछ पहनने के शौकीन थे , इसलिए उन सबने भी अपने कान बिंधवाने प्रारंभ कर दिए । ऐसा कहा जाता है कि तीसरी शताब्दी में रोमन सम्राट ने एक आदेश जारी करके पुरुषों के कान बिंधवाने पर प्रतिबंध लगा दिया । 




मध्यकाल के बाद पुरुषों ने केवल बाएं कान में बालियां पहननी शुरू कर दीं । जब बालों का स्टाइल बदला तथा बाल कानों के ऊपर रखे जाने लगे तो ' इयररिंग्स ' स्टाइल से बाहर हो गए लेकिन 15 वीं तथा 16 वीं शताब्दियों में ' इयररिंग्स ' फिर वापस आ गए । 




भारत में यह हमेशा से ही रहे तथा कभी भी फैशन से बाहर नहीं हुए । राजा तथा रानियां दोनों ही कानों में बालियां पहनते थे । आजकल अधिकतर महिलाएं ही कानों में कई तरह के आभूषण पहनती हैं तथा कानों को बिधवाती हैं हालांकि अब पुरुषों में भी यह रुझान फिर से पैदा होने लगा है । 




पुरुषों ने दाढ़ी बनानी कब शुरू की ?



लोगों ने अपने कान कब विधवाने शुरू किए | पुरुषों ने दाढ़ी बनानी कब शुरू की | प्रारंभिक हज्जाम कौन थे | पुरातन काल में किस तरह के दर्पण इस्तेमाल होते थे, https://www.discoveryworldhindi.com


पूर्व ऐतिहासिक काल के पुरुष अपनी दाढ़ी तथा बालों को बढ़ने देते थे । उन्होंने कब दाढ़ी बनाना तथा बाल कटवाना शुरू किया ? 


शेविंग अर्थात दाढ़ी बनाने का काम धार्मिक रीति - रिवाजों के एक भाग के रूप में प्रारंभ हुआ था । किसी समय उन्हें अवश्य यह अहसास हुआ । होगा कि लम्बे बाल तथा दाढी काफी असहज हैं क्योंकि उनमें काफी धूल तथा गंदगी फंस जाती थी । 




धर्म सफाई के साथ भी सम्बद्ध था । इस तरह दाढ़ी बनाना एक धार्मिक रिवाज बन गया । प्राचीन भारतीय तथा मिस्त्री लोग धार्मिक कारणों से अपने चेहरे शेव करते थे । दूसरी ओर प्राचीन यहूदियों को धार्मिक कारणों से पूरी दाढ़ी रखनी पड़ती थी । 




यूनानियों के लिए सिकंदर महान दाढ़ी बनाने की शुरूआत करवाई क्योंकि उसके सैनिकों को युद्ध के मैदान में आमतौर पर दाढ़ी से पकड़ लिया ने जाता था । प्रारंभिक रोमन 300 ईसा पूर्व तक नाइयों के अस्तित्व में आने से पहले तक दाढ़ी बनाते थे । 


रोमन शोक की अवधि के दौरान अपनी दाढ़ी को बढ़ने देते थे जबकि - यूनानी शोककाल के दौरान अपनी दाढ़ी काट देते थे। "




प्रारंभिक हज्जाम कौन थे ? 



आज हर गली की नुक्कड़ पर हमें हज्जाम की कोई न कोई दुकान मिल जाती है , लेकिन सबसे पहले यह काम किन लोगों ने शुरू किया था ? यह बताना कठिन है कि प्रारंभिक हज्जाम कौन थे । भारत में हज्जाम विभिन्न घरो में जाते थे तथा लोगों के बाल एवं दाढ़ी काटा करते थे । 




उनकी पत्नियां महिलाओं के कानों में छेद निकालती थीं , अधिकतर अमीर घरों में इतिहास में हज्जाम के पहले रिकार्ड प्राचीन मिस्र तक जाते है । रोम में प्राचीन यूनान तथा हज्जाम की दुकानें एक लोकप्रिय स्थल होती थीं जहां पुरुष विभिन्न मुद्दों पर विचार - विमर्श करते थे । 




प्राचीन काल के हज्जामों के बारे में एक अन्य रोचक तथ्य यह है कि वे शल्य चिकित्सा भी करते थे । वे जख्मों का उपचार करते थे और यहां तक कि दांत भी निकाल देते थे । इंगलैंड में , राजा ने लगभग 1540 ईस्वी में हज्जामों के शल्य चिकित्सा करने पर प्रतिबंध लगा दिया । धीरे - धीरे हज्जामों का काम शल्य चिकित्सकों से अलग हो गया । 




शब्द ' बार्बर ' लातीनी भाषा के शब्द ' बार्बा ' से आया है जिसका अर्थ है ' बियर्ड ' अर्थात दाढ़ी । उन दिनों हो सकता है कि दाढ़ी की छंटनी करवाना सिर के बालों को काटने से अधिक महत्वपूर्ण हो । 




पुरातन काल में किस तरह के दर्पण इस्तेमाल होते थे ? 



लोगों ने अपने कान कब विधवाने शुरू किए | पुरुषों ने दाढ़ी बनानी कब शुरू की | प्रारंभिक हज्जाम कौन थे | पुरातन काल में किस तरह के दर्पण इस्तेमाल होते थे, https://www.discoveryworldhindi.com


पहले - पहल किस तरह के दर्पण इस्तेमाल किए जाते थे ।  पूर्व इतिहास काल में जब लोग अपने प्रतिबिम्ब नदियों के पानी या पोखरों के पानी में देखते थे तो अवश्य उन्हें आघात लगता होगा । वे नहीं जानते थे कि वे खुद को ही देख रहे हैं । 




धीरे - धीरे उन्हें अहसास हो गया कि समतल सतह रोशनी को परावर्तित करती है तथा एक छवि बनाती है । सतह को बहुत चिकनी होना चाहिए । और तब से लोगों ने चिकनी सतह बनाने के लिए बहुत-से तरीकों को इस्तेमाल किया । 




प्राचीन काल में दर्पण में  पालिश की गई धातुओं से बनाए जाते थे । वे पीतल , तांबा , चांदी या सोने जैसी धातुओं के गोलाकार टुकड़े होते थे । वेनीयिन पहले ऐसे लोग थे जिन्होंने शीशे के दर्पण बनाना शुरू किया जिनके पीछे पारा तथा जस्ता लगाया जाता था । 


लोगों ने अपने कान कब विधवाने शुरू किए | पुरुषों ने दाढ़ी बनानी कब शुरू की | प्रारंभिक हज्जाम कौन थे | पुरातन काल में किस तरह के दर्पण इस्तेमाल होते थे, https://www.discoveryworldhindi.com
तांबे का दर्पण

ईस्वी सन 1300 में उन्होंने ऐसे दर्पण बनाने शुरू किए तथा शीघ्र ही शीशे के बने दर्पणों ने धातु के दर्पणों का स्थान ले लिया । "




🙏दोस्तों अगर आपको यह जानकारी अच्छी लगी हो तो आप कमेंट करना ना भूलें नीचे कमेंट बॉक्स में अपनी कीमती राय जरूर दें। Discovery World Hindi पर बने रहने के लिए हृदय से धन्यवाद ।🌺


लोगों ने अपने कान कब छिदवाने शुरू किए | पुरुषों ने दाढ़ी बनानी कब शुरू की | प्रारंभिक हज्जाम कौन थे | पुरातन काल में किस तरह के दर्पण इस्तेमाल होते थे ? Reviewed by Jeetender on November 26, 2021 Rating: 5

No comments:

Write the Comments

Discovery World All Right Reseved |

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.