Top Ad unit 728 × 90

Breaking News

InterestingStories

चंद्रमा चमकता क्यों है | चांद पर जीवन क्यों नहीं है | क्या चंद्रमा पर गुरुत्वाकर्षण है ? | अंतरिक्ष में गुरुत्वाकर्षण पृथ्वी के समान क्यों नहीं होता ?

चन्द्रमा चमकता क्यों है ? 


चंद्रमा चमकता क्यों है | चांद पर जीवन क्यों नहीं है | क्या चंद्रमा पर गुरुत्वाकर्षण है ? | अंतरिक्ष में गुरुत्वाकर्षण पृथ्वी के समान क्यों नहीं होता ?, चांद के बारे में रोचक जानकारी



चन्द्रमा की कोई अपनी रोशनी नहीं होती । यह इसीलिए चमकता है क्योंकि सूर्य की रोशनी इसकी सतह से टकराती हैं । तथा परावर्तित होकर हम तक पहुचंती है । यह पृथ्वी का एक उपग्रह है । पृथ्वी से हम चन्द्रमा का केवल एक भाग देख सकते हैं । ऐसा इसलिए क्योंकि चन्द्रमा अपनी धुरी पर उतनी ही लम्बाई में घूमता है , जितना समय यह पृथ्वी का चक्कर लगाने में लेता है । 




सूर्य से आने वाली रोशनी जो चन्द्रमा से टकराती है , का प्रभाव बहुत रुचिपूर्ण होता है क्योंकि चन्द्रमा पर कोई वातावरण नहीं होता । लगभग 14 दिनों तक चन्द्रमा की सतह को सूर्य की सीधी किरणें पानी के उबाल बिंदू के तापमान से भी अधिक गर्म कर देती हैं । चंद्र माह के दूसरे आधे भाग में एक लम्बी काली रात की ठंडक होती है , क्योंकि यहां गर्मी को रोकने के लिए कोई वातावरण नहीं है । 




पृथ्वी भी चन्द्रमा पर रोशनी परावर्तित करती है , जिसे ' अर्थ शाइन ' कहा जाता है । लेकिन इससे चन्द्रमा की रात का तापमान बढ़ाने में कोई सहायता नहीं मिलती जो शून्य से लगभग 200 डिग्री सैंटीग्रेड नीचे तक गिर जाता है ।




क्या चंद्रमा पर गुरुत्वाकर्षण है ?



चंद्रमा चमकता क्यों है | चांद पर जीवन क्यों नहीं है | क्या चंद्रमा पर गुरुत्वाकर्षण है ? | अंतरिक्ष में गुरुत्वाकर्षण पृथ्वी के समान क्यों नहीं होता ?, चांद के बारे में रोचक जानकारी, https://www.discoveryworldhindi.com


आप सभी जानते हैं कि गुरुत्वाकर्षणा वह शक्ति है जो ब्रह्मांड में मौजूद हर वस्तु को हर दूसरी वस्तु की ओर खींचती है । गुरुत्वाकर्षण की शक्ति दो चीजों पर निर्भर करती है । इसमें शामिल वस्तुओं का आकार तथा उनकी एक - दूसरे से दूरी पृथ्वी हमें इसलिए खींचती है क्योंकि बहुत विशाल है । " 




चन्द्रमा भी बहुत बड़ा है लेकिन पृथ्वी के मुकाबले यह काफी छोटा है । पृथ्वी के अनुपात में इसका भार 1/81 है । अतः इसकी सतह पर गुरुत्वाकर्षण शक्ति या खिंचाव पृथ्वी के मुकाबले काफी कम होता है । दरअसल यह पृथ्वी के गुरुत्वाकर्षण के केवल छठे भाग के बराबर होता है । 




इसीलिए जब कोई व्यक्ति चन्द्रमा पर होता है तो उसका भार पृथ्वी पर उसके भार के छठे भाग के बराबर होता है । गुरुत्वाकर्षण की शक्ति पृथ्वी की सतह पर आपके भार के बराबर होता है । यदि आप चन्द्रमा पर उतरें तथा वहां छलांग लगाएं तो आप छः गुणा अधिक ऊंचा कूद सकेंगे । 




यदि आप कोई गेंद फेंके तो यह छ: गुना अधिक दूर जाएगी क्योंकि चन्द्रमा की सतह का खिंचाव पृथ्वी के मुकाबले काफी कमजोर होता है ।



 

अंतरिक्ष में गुरुत्वाकर्षण पृथ्वी के समान क्यों नहीं होता ?


चंद्रमा चमकता क्यों है | चांद पर जीवन क्यों नहीं है | क्या चंद्रमा पर गुरुत्वाकर्षण है ? | अंतरिक्ष में गुरुत्वाकर्षण पृथ्वी के समान क्यों नहीं होता ?, चांद के बारे में रोचक जानकारी, https://www.discoveryworldhindi.com

 

ब्रह्माण्ड में हर वस्तु दूसरी अन्य वस्तुओं को अपनी ओर खींचती है । यही गुरुत्वाकर्षण है । इस खींच की शक्ति इस बात पर निर्भर करती है कि पिंड में कितनी सामग्री है । उस वस्तु या पिंड जिसमें बहुत सा पदार्थ या सामग्री हो , का गुरुत्वाकर्षण बहुत होगा । 




" पृथ्वी का भार या पृथ्वी की सामग्री चांद से अधिक है इसलिए इसके गुरुत्वाकर्षण का खिंचाव चांद से अधिक है । इससे भी अधिक , यदि दो वस्तुएं एक - दूसरे के अधिक करीब होंगी तो उनका खिचाव भी अधिक होगा । 




यदि आप बाहर अंतरिक्ष में जाएं तो आप पृथ्वी की गुरुत्वाकर्षण शक्ति से दूर होंगे । आप पर कोई खिंचाव नहीं होगा । आप भारविहीनता की स्थिति में होंगे । यही कारण है कि भारविहीन अंतरिक्ष यात्री तथा अन्य वस्तुएं रॉकेटों तथा अंतरिक्ष यानों में हवा में तैरते से दिखाई देते हैं । "




चांद पर जीवन क्यों नहीं है ?



चंद्रमा चमकता क्यों है | चांद पर जीवन क्यों नहीं है | क्या चंद्रमा पर गुरुत्वाकर्षण है ? | अंतरिक्ष में गुरुत्वाकर्षण पृथ्वी के समान क्यों नहीं होता ?, चांद के बारे में रोचक जानकारी, https://www.discoveryworldhindi.com



चांद पर कोई वातावरण नहीं है । पृथ्वी पर अंधेरा धीरे - धीरे आता है क्योंकि सूर्यास्त के बाद भी हवा सूर्य की रोशनी को प्रतिबिंबित करती रहती है । चांद पर एक पल वहां सूर्य की रोशनी होती है और अगले ही पल रात हो जाती है । " चांद पर कोई हवा नहीं है इसी कारण यह सूर्य के खतरनाक विकिरणों से सुरक्षित नहीं है । 




हमारी सुरक्षा पृथ्वी का वातावरण करता है । क्योंकि वहां किसी तरह का वातावरण नहीं है इसलिए चांद की सतह या तो अत्यधिक गर्म या अत्यधिक ठंडी होती है । इसके घूमने के साथ इसका जो भी भाग सूर्य के कारण रोशन होता है , बहुत गर्म हो जाता है । वहां पर तापमान 150 डिग्री सैंटीग्रेड से भी अधिक हो जाता है । 




गर्म चंद्र दिवस दो सप्ताहों तक रहता है और इसके बाद रात होती है जो फिर दो सप्ताह लम्बी होती है । रात के समय वहां का तापमान शून्य से 125 डिग्री सैंटीग्रेड तक नीचे गिर जाता है । यह पृथ्वी के दक्षिणी ध्रुव के तापमान से भी दुगुने से अधिक ठंडा है । इन्हीं सब कारणों से चांद पर कोई जीवन नहीं है । "




🙏दोस्तों अगर आपको यह जानकारी अच्छी लगी हो तो आप कमेंट करना ना भूलें नीचे कमेंट बॉक्स में अपनी कीमती राय जरूर दें। Discovery World Hindi पर बने रहने के लिए हृदय से धन्यवाद ।🌺


यह भी पढ़ें:-





            💙💙💙 Discovery World 💙💙💙



चंद्रमा चमकता क्यों है | चांद पर जीवन क्यों नहीं है | क्या चंद्रमा पर गुरुत्वाकर्षण है ? | अंतरिक्ष में गुरुत्वाकर्षण पृथ्वी के समान क्यों नहीं होता ? Reviewed by Jeetender on November 25, 2021 Rating: 5

No comments:

Write the Comments

Discovery World All Right Reseved |

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.