Top Ad unit 728 × 90

Breaking News

InterestingStories

नन्हा चित्रकार | हाथ की उंगलियां कट जाने के बावजूद बना महान चित्रकार | Best Motivational Story

नन्हा चित्रकार

नन्हा चित्रकार,बाल कथा,kids stories,Moral stories, Motivational stories, बच्चों की मजेदार कहानी, शिक्षाप्रद कहानी, नई कहानी, पंचतंत्र की कहानी, हिंदी कहानियां, बंटी की कहानी, बंटी चित्रकार, मामा जी का घर, सुंदर पेंटिंग, पेंटिंग कैसे बनाएं



बंटी को चित्रकारी का बहुत शौक था । वह बहुत बड़ा चित्रकार बनना  चाहता था । इसके लिए वह अभी से खूब मन लगाकर चित्रकारी सीख रहा था । उसे नदी, पहाड़, झरने आदि  प्राकृतिक दृश्यों का चित्र बनाना बहुत पसंद था । उसके मामा जी का घर प्राकृतिक दृश्यों से भरपूर एक गांव में था । 




जब भी उसे छुट्टी मिलती वह चित्रकारी का सामान लेकर अपने मामा जी के गांव पहुंच जाता और चित्र बनाता था । ' बंटी के बनाए हुए चित्र सबको बहुत पसंद आते थे । स्कूल में होने वाली चित्रकला प्रतियोगिता में वह कई पुरस्कार जीत चुका था । इस बार भी जब गर्मी की छुट्टियां हुईं तो वह अपने मामा जी के गांव पहुंच गया । 




मामा जी उसे देखकर बहुत खुश हुए । उन्होंने हंसते हुए पुछा , " चित्रकारी का सामान साथ लेकर आए हो न बेटा ? " " हां , हां मामा जी । उसने तपाक से कहा , ' वह मैं कैसे भूल सकता हूं । युद्ध के लिए निकला सिपाही भला अपना हथियार कैसे भूल सकता है । ' शाबाश , इस बार मैं तुम्हें एक ऐसे स्थान का पता बातऊंगा जहां बैठ कर तुम्हें चित्रकारी करने में बहुत मजा आएगा । 




" मामा जी बोले । " सिर्फ पता बताने से काम नहीं"चलेगा । " उसने कहा , " आपको मेरे साथ उस स्थान पर चलना होगा। ” " ठीक है , मैं चलूंगा । " मामा जी ने वायदा किया । अगली सुबह बंटी जल्दी - जल्दी तैयार हो गया और मामा जी से बोला , " मामा जी चलिए मैं तैयार हो गया । " " बेटा मुझे अभी पशुओं के लिए मशीन पर चारा काटना है । 




" मामा जी ने कहा , " थोड़ी देर बाद चलेंगे । तुम तब तक खेलो । " यह कह कर वह चारा काटने वाली मशीन पर चारा काटने लगे । ' मामा जी , मैं आपको सहयोग करूं , ? काम जल्दी " पूरा हो जाएगा । " इतना कह कर वह चारा उठाकर मशीन में डालने लगा । " नहीं बेटा , तुम छोड़ दो । " मामा जी उसे समझाते हुए बोले , " तुम से नहीं होगा । 




यह बहुत सावधानी का काम है तुम्हारा हाथ मशीन में कट सकता है । " लेकिन बंटी मामा जी की बात अनसुनी करके मशीन में जल्दी जल्दी चारा डालने लगा। तभी अचानक उसका दाहिना हाथ मशीन में फंस गया और उसकी पांचों उंगलियां कट गईं । वह खूब जोर से चीखा और बेहोश हो गया । चारों तरफ खून ही खून फैल गया । 




यह देख कर मामा जी बुरी तरह घबरा गए । बंटी को तुरन्त गोद में उठा कर गांव के ही एक डाक्टर के पास ले गए । डाक्टर ने मरहमपट्टी कर दी और सुझाव देते हुए कहा , " मेरे विचार से इसे तुरन्त शहर ले कर चले जाइए । क्योंकि खून बहना पूरी तरह बंद नहीं हो रहा है । 




" मामा जी ने अपनी जीप निकाली और अपने एक दोस्त के साथ बंटी को लेकर तुरन्त शहर रवाना हो गए । बंटी की हालत देख कर पापा बेहद घबरा गए । मां तो जोर - जोर से रोने ही लगी । वे लोग बंटी को एक डाक्टर के पास ले गए । डाक्टर ने अच्छी तरह मरहमपट्टी की और दवाइयां दी , जिससे खून बहना बंद हो गया । 




डाक्टर ने अफसोस प्रकट करते हुए कहा , " अब यह अपने दाहिने हाथ से कोई भी काम नहीं कर सकेगा । " सबको इस हादसे पर बहुत दुख हुआ । धीरे - धीरे बंटी के हाथ का घाव ठीक हो गया । पर वह अपने हाथ को लेकर हमेशा दुखी रहता था । वह सोचता , " मैं अपाहिज हो गया हूं । अब मैं अपने हाथ से कभी लिख नहीं सकूंगा चित्रकारी भी नहीं कर सकूंगा । " कभी - कभी वह फफक - फफक कर रो पड़ता था । 




मां उसे हमेशा समझाती रहती थी और उसके मन से निराशा निकालने के प्रयास में लगी रहती थीं । एक दिन मां ने उसे कहा , " बेटा तुम बाएं हाथ से लिखने का अभ्यार करो । देखना , कुछ ही दिनों में तुम उसी तरह लिखना सीख जाओगे जैसा दाएं से लिखते थे । " बाएं हाथ से तो वह अपना काम कर ही लेता था । शर्ट पहन लेता था । बटन भी लगा लेता था । खाना भी खा लेता था , 




उसने लिखने का अभ्यास शुरू कर दिया । शुरू में उसे बड़ी मुश्किल हुई । उसकी लिखाई ऐसी हो जाती जैसे कोई छोटा बच्चा लिखना सीख रहा हो लेकिन धीरे - धीरे सब ठीक होता गया । उसके मन से निराशा के बादल भी छंटते चले गए । तब एक दिन उसने अपनी मां से कहा , " मां , मैं  से चित्रकारी शुरू करना चाहता हूं । 




क्या मैं बाएं हाथ से कूची पकड़ कर चित्र नहीं बना सकता हूं। " " हां , बेटा । " मां उसका हौसला बढ़ाती हुई बोलीं , “ तुम बाएं हाथ से चित्र बना सकते हो । यदि मन में उत्साह और कुछ कर गुजरने की तमन्ना हो तो व्यक्ति क्या कुछ नहीं कर सकता । ' " " बंटी बाएं हाथ से चित्र बनाने का अभ्यास करने लगा । शुरू में उससे चित्र ठीक से नहीं बन पाता था । फिर भी वह लगा ही रहता था । 




आखिर उसकी मेहनत रंग लाने लगी । जो भी उसके बनाए चित्रों को देखता खूब प्रशंसा करता । एक बार स्कूल में जिला स्तरीय हस्तशिल्प प्रतियोगिता का आयोजन हुआ , जिसमें उसने अपने बाएं हाथ से बनाए हुए चित्रों का प्रदर्शन किया । उसके चित्रों को खूब सराहा गया और पुरस्कार के लिए चुना गया । जब उसने पुरस्कार ग्रहण किया तो वातावरण तालियों से गूंज उठा । 




बड़ा होने पर बंटी एक बहुत बड़ा चित्रकार बना और उसकी ख्याति दूर-दूर तक फैल गई। बच्चों इस कहानी से यही शिक्षा मिलती है कि हमें कभी भी अपने जीवन में हिम्मत नहीं हारना चाहिए । हमेशा संघर्ष करना चाहिए क्योंकि संघर्ष का फल हमेशा मीठा होता है । -हेमंत यादव





🙏दोस्तों अगर आपको यह कहानी अच्छी लगी हो तो आप कमेंट करना ना भूलें नीचे कमेंट बॉक्स में अपनी कीमती राय जरूर दें। Discovery World Hindi पर बने रहने के लिए हृदय से धन्यवाद ।🌺



यह भी पढ़ें:-




           💙💙💙 Discovery World 💙💙💙





नन्हा चित्रकार | हाथ की उंगलियां कट जाने के बावजूद बना महान चित्रकार | Best Motivational Story Reviewed by Jeetender on November 25, 2021 Rating: 5

No comments:

Write the Comments

Discovery World All Right Reseved |

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.