Top Ad unit 728 × 90

Breaking News

InterestingStories

वीर क्रांतिकारी बलिदानी बालक राजा | बालक राजा जिसने अंग्रेजों की गुलामी सहने के बजाय बलिदान होना स्वीकार किया

वीर बालक राजा
वीर-क्रांतिकारी-बलिदानी-बालक-राजा-Discoveryworld


दक्षिण भारत में हैदराबाद के निकट जोरापुर की एक छोटी सी रियासत थी । यहां का राजा राव बहुत कम उम्र का बालक था । 1857 ई . के प्रथम स्वतंत्रता संग्राम के क्रांतिकारियों का वह प्रबल पक्षधर था । अंग्रेजों से लोहा लेने के लिए उसने अरब और रूहेला पठानों की एक शक्तिशाली सेना संगठित की थी । 





तत्कालीन हैदराबाद का निजाम अफजलुद्दौला अंग्रेजों का पक्का मददगार था । ब्रिटिश शासकों ने उसे विशेष रूप से पुरस्कृत किया था । निजाम को बरार प्रांत लौटा दिया गया था तथा उसके ऋण को भी माफ कर दिया गया । निज़ाम का प्रधानमंत्री सालारजंग भी अंग्रेजों का पूर्ण भक्त था । 





वह देशभक्त स्वाधीनता संग्राम सेनानियों को पकड़वा कर अंग्रेजों के हवाले करवा देता था । उसकी इसी वफादारी के कारण ब्रिटिश सरकार ने उसे ' सर ' की उपाधि प्रदान की थी। यूरोपीय इतिहासकारों ने ग्वालियर के मंत्री सर दिनकर राव तथा हैदराबाद के मंत्री सर सालारजंग की राजभक्ति की बहुत प्रशंसा की है । 





जब सालारजंग को जोरापुर रियासत के इस वीर बालक राजा की सैनिक गतिविधि की गुप्त सूचना मिली तो वह चौकन्ना हो गया । उसने एक सुनियोजित षड्यंत्र रचा । फरवरी 1858 ई . में बालक राजा को हैदराबाद आमंत्रित किया गया । यहां आने पर सालारजंग ने विश्वासघात का सबसे निकृष्टतम नमूना पेश करते हुए उसे कैद करवा के अंग्रेजों को सौंप दिया । 




गिरफ्तारी के बाद भी बालक राजा के वीरोचित व्यवहार में कोई परिवर्तन परिलक्षित नहीं हुआ । देश - भक्ति की भावना से ओत - प्रोत उसका आचरण सदैव प्रशंसनीय बना रहा । मीडोज टेलर नाम का एक अंग्रेज अधिकारी राजा की निगरानी रखता था । धीरे - धीरे बालक राजा इसके साथ काफी हिल - मिल गया और उसे प्यार से ' अप्पा ' कहकर पुकारता था । 





एक बार मीडोज टेलर बालक राजा से मिलने जेल आया । राजा उससे बड़े हर्ष के साथ मिला । तरह - तरह का प्रलोभन दे कर उसन राजा की आगाध देशभक्ति को बदलने की चेष्टा की । अंग्रेज रैजीडेन्ट से मिलकर क्षमा याचना करने की उसने राय दी । यह सुनकर बालक राजा ने कहा , " आपकी यह नेक सलाह मेरे गले के नीचे नहीं उतरती । 





रैजीडेंट को यह विश्वास होगा कि उसके समक्ष नत - मस्तक होकर मैं अपनी प्राणरक्षा के लिए प्रार्थना करूंगा परंतु उसका यह सोचना नितांत गलत है । मैं कायरतापूर्ण जीवन जीने की अपेक्षा मृत्यु का वरण श्रेयस्कर समझता हूं । " जब मीडोज टेलर ने उससे अन्य क्रांतिकारी नेताओं के बारे में जानना चाहा तो वह क्रोध से उबल पड़ा और गर्वीले स्वर से बोला , 





" मैं देशभक्त वीरों के नाम बताकर देशद्रोह का कलंक अपने सिर कभी नहीं ले सकता । ऐसा करना जघन्य अपराध होगा। " एक बार फिर मीडोज टेलर ने बालक राजा को फुसलाकर विद्रोहियों के गुप्त ठिकानों के बारे में कुछ जानना चाहा तो टेलर को फटकारते हुए बालक राजा बोला , " ऐसा पूछते हुए आपको शर्म आनी चाहिए । 





मैं मृत्यु का सहर्ष आलिंगन करने के लिए तैयार हूं । तोप , फांसी तथा कालापानी से भी बढ़कर देशवासियों के साथ गद्दारी करना होता है । " जब टेलर ने कहा कि क्रांतिकारियों की मदद करने के अपराध में उसे मृत्यु दंड दिया जाएगा , तब बालक राजा ने बड़ी निर्भीकता से कहा , " देश हित में प्राण त्याग करने में मैं अपना परम सौभाग्य समझंगा । 





आपसे मेरा एक ही निवेदन है कि कुछ ऐसा उपाय कीजिए , जिससे चोर - डाकू की तरह मुझे फांसी पर न लटकाया जाएं। तोप के गोले से मुझे उड़ा दिया जाए । ऐसी मृत्यु पाकर मुझे अपार गौरव का अनुभव होगा । " टेलर के सारे प्रयत्न व्यर्थ हो गए । बालक राजा अपने दृढ़ - संकल्प पर अटल रहा । 




मीडोज टेलर के प्रयासों के परिणामस्वरूप मृत्युदंड के स्थान पर बालक राजा को कालापानी की सजा सुनाई गई । जब सुरक्षा कर्मी उसे पानी के जहाज से अंडमान ( कालेपानी ) ले जा रहे थे तो बालक राजा ने एक अंग्रेज पहरेदार से खेल के बहाने उसकी पिस्तौल मांग ली । 





थोड़ी देर तक इस पिस्तौल के साथ वह खेलता रहा , फिर मौका पाकर उसने अपने सीने में गोली मार ली । कुछ क्षण के बाद उसके प्राण पखेरू उड़ गए । मृत्यु के एक दिन पूर्व बालक राजा ने कहा था , " कालेपानी की अपेक्षा मैं मृत्यु को गले लगाना ज्यादा पसंद करता हूं । मेरी प्रजा का सबसे तुच्छ व्यक्ति भी जेल की दीवारों में रहना स्वीकार नहीं करेगा । 





मैं राजा होकर कैद और काला पानी की संजा कैसे बर्दाश्त कर सकता हूं । इस वीर बालक राजा की अमर कहानी का विस्तृत विवरण मीडोज टेलर ने अपनी अंग्रेजी पुस्तक ' द स्टोरी ऑफ माई लाइफ ' ( ईडन बर्ग लंदन 1978 ) में दिया है । 





जोरापुर के राजा का एक साथी नारकुंड का राजा भास्कर राव बाबा साहब था । उसने भी अंग्रेजों के विरुद्ध 25 मई 1858 ई . में युद्ध का ऐलान किया था । अंग्रेजी सेना को उसने बुरी तरह पराजित किया । बाद में सौतेले भाई की गद्दारी के कारण वह पराजित हुआ । 





अंग्रेजों ने उसे गिरफ्तार करवा के 12 जून 1858 ई . में फांसी पर लटका दिया था । उसकी रानी और मां दोनों ने मालप्रभा नदी में कूदकर आत्महत्या कर ली । ऐसे शहीदों की गौरव गाथाएं देशवासियों के लिए सदैव प्रेरणा का स्त्रोत बनी रहेंगी । 



🙏दोस्तों अगर आपको यह जानकारी अच्छी लगी हो तो आप कमेंट करना ना भूलें नीचे कमेंट बॉक्स में अपनी कीमती राय जरूर दें। Discovery World पर बने रहने के लिए धन्यवाद ।🌺


यह भी पढ़ें:-





वीर क्रांतिकारी बलिदानी बालक राजा | बालक राजा जिसने अंग्रेजों की गुलामी सहने के बजाय बलिदान होना स्वीकार किया Reviewed by Jeetender on October 02, 2021 Rating: 5

2 comments:

  1. मुझे आपकी वैबसाइट बहुत पसंद आई। आपने काफी मेहनत की है। मैंने आपकी वैबसाइट को बुकमार्क कर लिया है। हमे उम्मीद है की आप आगे भी ऐसी ही अच्छी जानकारी हमे उपलब्ध कराते रहेंगे। अगर आप दिल्ली घूमने जा रहे है तो एक बार हमारी वैबसाइट को जरूर visit करे। इस वैबसाइट “ Delhi Capital India ” के माध्यम से हमने भी लोगो को दिल्ली की जानकारी देने की कोशिश की है। हो सके तो हमारी वैबसाइट को एक बैकलिंक जरूर दे। धन्यवाद ॥

    ReplyDelete

Write the Comments

Discovery World All Right Reseved |

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.