Top Ad unit 728 × 90

Breaking News

InterestingStories

जुगनूं | प्राणी जगत का टिमटिमाता सितारा | जुगनू अंधेरे में क्यों चमकता है | क्या जुगनू के पीछे बलफ होता है?

जुगनू कैसे चमकते हैं?

जुगनूं, जुगनू कैसे चमकता है, क्या जुगनू के पीछे बलफ होता है, जुगनू क्या खाते हैं, जुगनू रात में ही क्यों चमकते हैं, वैज्ञानिक कारण, प्रकाश नियंत्रित,
अंधेरी रात में , खेतों में , घने जंगलों में कम ऊंचाई पर उड़ते प्रकाश पुंजों को आपने अवश्य देखा होगा । ये प्रकाश पुंज जलते - बुझते रहते हैं । कौतुहलवश आप प्रकाश पुंजों को पकड़ने का प्रयास करते हैं तो आपके हाथ में कुछ कीट आते हैं उनके पिछले सिरे रोशनी उत्सर्जित करते रहते है। बच्चे इन कीटों की ओर अवश्य ही आकर्षित होते हैं । 




वे इन कीटों को पकड़कर माचिस की डिब्बियों में बंद कर लेते हैं । प्रकृति में पाए जाने वाले इन अनोखे कीटों को हम जुगनूं के नाम से जानते हैं । इन्हें अंग्रेजी में फायरफ्लाई , लाइटनिंग बग या ग्लोवर्म भी कहा जाता है । आइए , इस अनोखे कीट के विषय में विस्तार से जानें ।



 

कीट विज्ञान के दृष्टिकोण से देखा जाए । इस फायरफ्लाई को फ्लाई का नाम देना गलत है । कीट विज्ञान के अनुसार फ्लाई के अंतर्गत वे कीट आते हैं जिनके एक जोड़ी अर्थात दो पंख होते हैं । उदाहरण के लिए मक्खी । जुगनूं (फायरफ्लाई ) बीटल परिवार के सदस्य हैं । कीट विज्ञान के वर्गीकरण के अनुसार इन्हें कोलियाप्टेरा वर्ग के अंतर्गत रखा जाता है । 



रात में जुगनूं पौधों के आस - पास उड़ते दिखते हैं पर इनका भोजन पौधे नहीं हैं । जुगनूं के लारवा अपने मुख्य भोजन के रूप में केंचुओं , घोंघों आदि का उपयोग करते हैं । इन प्राणियों की गंध से लारवा इनका पीछा करते हैं । शिकार के पास पहुंच कर लारवा कुछ घातक रसायनों को अपनी सूंड की सहायता से शिकार के शरीर में डाल देता है , जिससे शिकार घायल हो जाता है और लारवा उसे मजे से खा  जाता है । 




वयस्क जुगनुओं के जबड़े हंसिए के समान धारदार होते हैं । शिकार के अभाव में वयस्क जुगनूं छल - कपट द्वारा अपनी ही जाति के अन्य कीटों को बेवकूफ बनाकर खा जाते हैं । कीट विज्ञान में जुगनुओं के इस व्यवहार को  ' एसिव मिमिक्री ' कहा जाता है । कभी भी शिकार के अभाव में वयस्क जुगनूं कई दोनों तक फूलों के मकरंद पर भी जीवित रह जाते हैं । 




अधिकतर जुगनुओं के शिशु ( लारवा ) सड़ी हुई लकड़ी , अन्य जंगली अवशेषों या तालाबों के आस - पास रात को दिखाई पड़ जाते हैं । एशिया में पाए जाने वाले कुछ विशेष प्रकार के जुगनूं पानी के अंदर रहते हैं । सांस लेने के लिए इनमें विशेष प्रकार के श्वसन छिद्र पाए जाते हैं । जलीय घोंघों को खाकर ये जुगनूंजीवित रहते हैं। कुछ जुगनूं शाकाहारी घोंघों पर जीवित रहते हैं । 




ये तितली की तरह लटकती हुई पत्तियों पर अपनी  प्यूपावस्था गुजारते हैं । वैज्ञानिक सर्वेक्षणों से पता चला है कि अधिकतर जुगनूं पानी या जल स्रोतों के आस - पास रहते हैं । विश्व के अति शुष्क क्षेत्रों में भी जुगनू देखे गए हैं । यदि विविधता के दृष्टिकोण से देखा जाए तो एशिया व मध्य एवं दक्षिण अमेरिका में सबसे अधिक किस्मों के जुगनूं पाए जाते हैं । 



वैज्ञानिक अनुसंधानों से पता चला है कि जुगनुओं द्वारा रोशनी उत्पन्न किए जाने के कई कारण हैं । वैज्ञानिकों का मानना है कि अपने दुश्मनों को डराने के लिए जुगनूं रोशनी उत्सर्जित करते हैं । दुश्मनों के आकार , प्रकार व आक्रमण की तीव्रता के अनुसार जुगनूं रोशनी की तीव्रता व मात्रा को घटाते - बढ़ाते रहते हैं । 




रोशनी उत्सर्जित करके वे दुश्मनों को शायद यह बता देना चाहते हैं कि उनमें रोशनी उत्पन्न करने वाले घातक रसायन भरे पड़े हैं । अत : उनका स्वाद अच्छा नहीं है । जुगनुओं के शिशु व वयस्क दोनों ही रोशनी उत्सर्जित करते हैं । उत्तरी अमेरिका के अधिकतर जुगनू मादा कीट को आकर्षित करने के लिए भी रोशनी का प्रयोग करते हैं । 




नर एक निश्चित समय के अंतराल में रुक - रुक कर रोशनी उत्सर्जित करता है। जिस मादा को वह नर पसंद आ जाता है वह भी उसी अंतराल में उसी प्रकार रोशनी उत्सर्जित करने लगती है ।


 

जुगनूं कैसे प्रकाश उत्सर्जित करते हैं ? आइए , इसे भी जानें।


जुगनूं, जुगनू कैसे चमकता है, क्या जुगनू के पीछे बलफ होता है, जुगनू क्या खाते हैं, जुगनू रात में ही क्यों चमकते हैं, वैज्ञानिक कारण, प्रकाश नियंत्रित,



रोशनी का उत्सर्जन एक रासायनिक अभिक्रिया है । इन कीटों में ल्यूसीफेरीन नामक एक रसायन होता है जो कि उनके शरीर में पाए जाने वाले विशेष प्रकार के एन्जाइम ल्यूसीफेरेस व ऑक्सीजन की सहायता से क्रिया करके रोशनी उत्पन्न करता है ।



 

रोशनी के आने व जाने का नियंत्रण जुगनूं कैसे करते हैं।


जुगनूं, जुगनू कैसे चमकता है, क्या जुगनू के पीछे बलफ होता है, जुगनू क्या खाते हैं, जुगनू रात में ही क्यों चमकते हैं, वैज्ञानिक कारण, प्रकाश नियंत्रित,


इस विषय में कीट वैज्ञानिक एकमत नहीं हैं । अधिकतर वैज्ञानिकों का मानना है कि जुगनूं में ऑक्सीजन आपूर्ति को रोकने व आरम्भ करने की क्षमता होती है । जब ऑक्सीजन की आपूर्ति होती है तो रोशनी उत्सर्जित होती है । जब ऑक्सीजन की आपूर्ति नहीं होती तो उत्सर्जन बंद हो जाता है । 




वैज्ञानिकों का मानना है कि यदि जुगनूं लगातार रोशनी का उत्सर्जन करते रहें तो उनके शरीर का तापक्रम इतना अधिक हो जाएगा कि उनकी जान को खतरा हो सकता है । यही कारण है कि बीच - बीच में रोशनी का उत्सर्जन बंद हो जाता है । यह विडम्बना ही है कि हम अब भी जुगनुओं के विषय में बहुत कम ही जान पाए हैं । 




हमारे देश के कई हिस्सों में जुगनुओं का प्रयोग औषधि के रूप में भी होता है । प्रतिवर्ष करोड़ों जुगनूं इसी तरह औषधि के रूप में काम में लाए जाते हैं । यूं तो किसानों के अपने मित्र केंचुए के दुश्मन के रूप में जुगनूं शायद पसंद न आए पर बच्चों के लिए प्रकृति के ये अनुपम प्राणी कौतुहल का विषय सदैव ही बने रहेंगे । 


यह भी पढ़ें:-



  ❤💙💚💛 Discovery World 💛💚💙❤




जुगनूं | प्राणी जगत का टिमटिमाता सितारा | जुगनू अंधेरे में क्यों चमकता है | क्या जुगनू के पीछे बलफ होता है? Reviewed by Jeetender on September 29, 2021 Rating: 5

No comments:

Write the Comments

Discovery World All Right Reseved |

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.