Top Ad unit 728 × 90

Breaking News

InterestingStories

मदर टेरेसा (27 अगस्त1910 - 5 सितंबर 1997), मुरलीधर देवीदास आमटे (24 दिसंबर-1914 - 9 फ़रवरी 2008)

मदर टेरेसा

दीन दुखियों की मसीहा

मदर टेरेसा, मुरलीधर देवीदास आमटे, मदर टेरेसा का परिचय, मदर टेरेसा कौन थी, दीन दुखियों की मसीहा मदर टेरेसा, मदर टेरेसा कौन से देश से थी,मुरलीधर देवीदास
मदर टेरेसा 27 अगस्त 1910

दीन मदर टेरेसा का वास्तविक नाम एग्नेस गोंजा बोजाजियु है । उनका जन्म 27 अगस्त 1910 को अल्बानिया के मकदूनिया में हुआ था । छोटी - सी उम्र में ही वह रोमन कैथोलिक चर्च की नन बन गईं और सन् 1928 में आयरलैंड की ब्लैस्ड वर्जिन मैरी चर्च से जुड़ गई । इसी के माध्यम से वह  एक मिशनरी दल के साथ भारत आईं । वह गरीबों की मदद करना चाहती थीं । 

कोलकाता आई तो वहां की घोर गरीबी देखकर उनके रौंगटे खड़े हो गए । उन्होंने सरकार की इजाजत ली और इन गंदी झोंपड़ - पट्टियों में रहने वालों की सेवा में जुट गईं । उन्होंने नर्सिंग का कोर्स भी कर लिया था । वह हर तरह से गरीबों की मदद किया करती थीं । सन् 1950 में उन्होंने नगरपालिका से एक होस्टल बनाने की अनुमति ली और अन्य सिस्टरों की सहायता से      ' मिशनरीज़ ऑफ चैरिटी ' आश्रम की स्थापना की । ' मिशनरीज़ ऑफ चैरिटी ' की सहायता से वह समाज के दीन - दुखी वर्ग को सहारा देने लगी । अनाथ बच्चों , अंधों , वृद्धों , बेसहारा औरतों , कुष्ठ रोगियों और समाज द्वारा त्यागे गए लोगों के लिए वह आशा की किरण बन कर आईं । वह समाजसेवा के हर क्षेत्र में अपने सेवाओं से राहत पहुंचाया करती थीं । उन्होंने ' निर्मल हृदय '   नामक एक सेवाश्रम की स्थापना की जहां अपनों द्वारा सताए गए लोगों को शरण मिलती है । मानसिक और शारीरिक रूप से कमजोर बच्चों के लिए उन्होंने शिशु भवन की स्थापना की । 

कुष्ठ रोगियों के लिए उन्होंने आसनसोल के करीब शांति नगर की स्थापना की । उनके द्वारा की गई मानवयीय सेवाओं को ध्यान में रखते हुए उन्हें कई राष्ट्रीय अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कारों से नवाजा गया । सन् 1963 में भारत सरकार ने उन्हें पद्मश्री का सम्मान प्रदान किया । सन् 1971 में पोप षष्ठम ने उन्हें पहले पोप जॉन ( तेईसवें ) शांति पुरस्कार से सम्मानित किया । उन्हें रोम में आकर बसने का निमंत्रण भी दिया गया लेकिन उन्हें कोलकाता की झोंपड़ - पट्टियां ज्यादा रास आईं । सन् 1962 में रैमोन मैगसेसे , सन् 1972 में अंतर्राष्ट्रीय शांति के लिए जवाहर लाल नेहरू पुरस्कार , सन् 1979 में नोबेल शांति पुरस्कार , सन् 1980 में भारत रत्न , सन् 1983 में आर्डर आफ मैरिट और सन् 1993 में राजीव गांधी सद्भावना पुरस्कार से सम्मानित किया गया । अब तक मदर टेरेसा भारत सहित सारे विश्व की धरोहर बन गई थीं । मानवों के प्रति उनकी सेवाएं आज एक विरासत बन गई हैं । उन्होंने सिखाया कि मानव सेवा से बड़ा कोई धर्म नहीं । 5 सितम्बर 1997 को उनका दुखद निधन हुआ ।

💙💙💙Discovery World💙💙💙

मुरलीधर देवीदास आमटे

गरीबों दीन दुखियों के मसीहा


Murlidhar Devidas Amte!,मदर टेरेसा, मुरलीधर देवीदास आमटे, मदर टेरेसा का परिचय, मदर टेरेसा कौन थी, दीन दुखियों की मसीहा मदर टेरेसा, मदर टेरेसा कौन से देश से थी,मुरलीधर देवीदास
मुरलीधर देवीदास आमटे 24 दिसंबर 1914


मुरलीधर देवीदास आमटे को सारा देश बाबा आमटे के नाम से जानता है । बाबा आमटे ने समाज सेवा और कुष्ठ रोगियों को शरण देने और उनका इलाज करने के लिए जो पहल की आज वह एक अद्वितीय मिसाल बन गई है । बाबा आमटे का जन्म महाराष्ट्र के वर्धा जिले के हिंगनघाट नामक गांव में 24 दिसम्बर , 1914 को एक जमींदार परिवार में हुआ । पढ़ाई के बाद वह पत्रकार बनना चाहते थे। सिनेमा में भी उनकी रूचि थी । उन्होंने द पिक्चर गोअर ' नामक पत्रिका के नए फिल्मों की समीक्षा भी लिखनी शुरू की । उन्होंने ग्रेटा  गारबो | जैसी अभिनेत्री से वार्ता भी की थी । 

लेकिन एक दिन उनके जीवन में अचानक एक मोड़ आया । बाबा अपने घर की तरफ जा रहे थे कि उन्होंने सड़क किनारे चीथड़ों की एक पोटली देखी । ध्यान से देखने पर पता चला कि वह तो एक आदमी था । कुष्ठ रोग के कारण उसके हाथ - पैर तक गल चुके थे । उसके शरीर पर कीड़े रेंग रहे थे । वह घर भाग आए लेकिन उनकी आत्मा ने उन्हें चैन से बैठने न दिया। वह वापस उस आदमी के पास गए और उसे खाना खिलाया । बारिश से बचाने के लिए उस पर एक छत बना दी । उनके मन में विचार आया कि हर व्यक्ति के बाबा भीतर एक दिव्य चिंगारी होती है और उसे शक्तिशाली अग्नि में परिवर्तित किया जा सकता है । 

मानव कल्याण की भावना लेकर उन्होंने आनंद आश्रम की स्थापना की । उन्होंने ' श्रमिक विद्यापीठ स्थापना का सपना देखा । बेकार भूमि को खेती लायक बनाने के लिए उन्होंने विद्यार्थियों का आह्वान किये और सरकार ने सोमनाथ के नजदीक उन्हें 2000 एकड़ भूमि प्रदान की । 1980 के दशक में उन्होंने साम्प्रदायिकता को मिटाने और एकता का माहौल तैयार करने के लिए ' भारत जोड़ो अभियान ' शुरू किया । आज उनका परिवार भी उनके समाज कल्याण के कार्य को आगे बढ़ा रहा है । उनके एक पुत्र डा . विकास आमटे अपनी पत्नी के साथ महारोगी सेवा समिति और एक अस्पताल चलाते हैं । उनके दूसरे पुत्र प्रकाश आमटे अपनी पत्नी के साथ हेमलकसा में स्कूल और अस्पताल चलाते हैं । बाबा आमटे ने ' नर्मदा बचाओ आंदोलन ' का नेतृत्व किया । वह ऐसे विकास के विरुद्ध हैं जो जनसामान्य का ख्याल नहीं रखती । उन्हें मैगसेसे और गांधी शांति पुरस्कार सहित कई नामी - गिरामी राष्ट्रीय अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार मिल चुके हैं ।
9 फरवरी 2008 को उनका दुखद निधन हुआ।


                     💙💙💙Discovery World💙💙💙


मदर टेरेसा (27 अगस्त1910 - 5 सितंबर 1997), मुरलीधर देवीदास आमटे (24 दिसंबर-1914 - 9 फ़रवरी 2008) Reviewed by Jeetender on August 23, 2021 Rating: 5

No comments:

Write the Comments

Discovery World All Right Reseved |

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.